डीआरडीओ ने तीसरी पीढ़ी की स्वदेशी दागो और भूलो मैन पोर्टेबल टैंक विरोधी मिसाइल का किया सफल परीक्षण

आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने और भारतीय सेना को मजबूत करने की दिशा में रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बुधवार को देश में विकसित कम वजन वाली, फायर एंड फॉरगेट मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपी-एटीजीएम) का सफल परीक्षण किया। मिसाइल को एक मैन पोर्टेबल लॉन्चर थर्मल साइट के साथ एकीकृत कर लॉन्च किया गया था। लक्ष्य एक टैंक का नकल बनाया गया था। मिसाइल ने सीधा हमला किया और लक्ष्य को सटीक रूप से पहचाना। इस परीक्षण ने न्यूनतम रेंज को सफलतापूर्वक सत्यापित किया है। मिशन ने अपने सभी उद्देश्यों को पूरा किया।

हथियारों के निर्माण में भारत लगाएगा और ऊंची छलांग, इस फैसले से बदल जाएगी पूरी तस्वीर

हथियारों के निर्माण में भारत तेजी से आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा है। ऐसे में इस क्षेत्र में विशेषज्ञों की मांग लगातार बढ़ रही है। इसको देखते हुए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने रक्षा (डिफेंस) टेक्नोलॉजी में एक नियमित मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (एमटेक) कार्यक्रम (course) शुरू किया है।