अपमान

हर बार दोष अपनी औलाद का ही नहीं होता। दोष पराई औलाद में भी हो सकते हैं। नजरिया बदलें। एक ही चश्मे से सब कुछ

1 2