आईआईटी दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहन तकनीक से जुड़ी तीन नई प्रयोगशालाएं शुरू

जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण के बढ़ते दबाव के चलते इलेक्ट्रिक वाहन वर्तमान युग की एक अनिवार्य आवश्यकता बनकर उभरे हैं। देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ते उपयोग को देखते हुए चार्जिंग स्टेशनों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ इलेक्ट्रिक वाहन प्रौद्योगिकी से संबंधित शोध एवं विकास पर भी जोर दिया जा रहा है।

विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों को अपनी ताकत का अहसास कराए वैश्य समाज : सत्य प्रकाश गुलहरे

उत्तर प्रदेश वैश्य-व्यापारी महासभा के अध्यक्ष सत्य प्रकाश गुलहरे ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में कोई भी राजनीतिक दल वैश्य समाज की उपेक्षा नहीं कर सकेगा। समाज में 16 से 21 प्रतिशत तक हिस्सेदारी रखने वाले वैश्य समाज की सभी राजनीतिक दलों ने अभी तक उपेक्षा की है। अब समय आ गया है कि वैश्य समाज एकजुटता प्रदर्शित करते हुए अपनी शक्ति का प्रदर्शन करे और राजनीतिक दलों को एहसास कराए कि कोई भी सरकार बिना हमारी भागीदारी के नहीं बन सकती।

अतिरिक्त सौर ग्रहों के अध्ययन में प्रकाश ध्रुवण मददगार

भारतीय खगोलविदों ने अतिरिक्त सौर ग्रहों के वातावरण को समझने की एक नई विधि खोजी है। उन्होंने दिखाया है कि सूर्य के अलावा अन्य तारों के चारों ओर घूमने वाले ग्रहों का अध्ययन प्रकाश के ध्रुवण को देखकर और ध्रुवण के संकेतों के आधार पर किया जा सकता है। ध्रुवण संकेत या प्रकाश की प्रकीर्णन तीव्रता में परिवर्तन को मौजूदा उपकरणों के साथ देखा जा सकता है और सौर मंडल से परे ग्रहों के अध्ययन का विस्तार किया जा सकता है।

छठ महापर्व 2021 : इस बार की छठ पूजा है बहुत खास, जानिए क्यों

छठ महापर्व 2021 का नहाय-खाय के साथ सोमवार को शुभारंभ हो गया। इस बार की पूजा अखंड साम्राज्य और अरिष्ट निवारण योग में हो रही है। इसके अलावा भी कई शुभ संयोग इस अवसर पर पड़ रहे हैं। इसलिए यह पूजा करने वाली व्रतियों की सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।जमशेदपुर में निवास कर रहे प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डॉ. सुधानंद झा के अनुसार सोमवार को शुभ दिन में नहाय-खाय कद्दू भात के साथ छठ महापर्व की शुरुआत हो रही है। नहाय-खाय पर वंश वृद्धि एवं सर्व संपन्नता योग बन रहा है।

आईवीएफ तकनीक से भारत में पहली बार भैंस के बछड़े का जन्म

कृत्रिम गर्भाधान की आईवीएफ तकनीक से भारत में पहली बार भैंस का गर्भाधान किया गया और बछड़े ने जन्म लिया। यह भैंस बन्नी नस्ल की है। इसके साथ ही भारत में ओपीयू-आईवीएफ तकनीक अगले स्तर पर पहुंच गई है। पहला आईवीएफ बछड़ा बन्नी नस्ल की भैंस के छह बार आईवीएफ गर्भाधान के बाद पैदा हुआ। यह प्रक्रिया सुशीला एग्रो फार्म्स के किसान विनय एल. वाला के घर जाकर पूरी की गई। यह फार्म गुजरात के सोमनाथ जिले के धनेज गांव में स्थित है।

Nalanda News : संगठित प्रयास ने दिखाया रंग : देश में 100 करोड़ टीकाकरण के साथ नालंदा जिला भी पहुंचा संक्रमणमुक्ति की कगार पर

नालंदा के जिला स्वास्थ्य समिति के जिला कार्यक्रम प्रबंधक ज्ञानेन्द्र सिंह ने जिले का टीकाकरण लक्ष्य पूरा करने को अपना पहला उद्देश्य बना लिया है। उनका कहना है जिम्मेदार नागरिक के साथ-साथ एक स्वास्थ्यकर्मी होने की वजह से कोरोना के खिलाफ उनकी जिम्मेदारी दोहरी हो जाती है। इसलिए कोविड टीकाकरण से जुड़े सभी विभागीय निर्देशों को जिले में शत-प्रतिशत पूरा करने का प्रयास करते हैं। पूजा पंडालों के पास टीकाकरण, 9 टू 9 टीकाकरण, टीका एक्सप्रेस, विशेष टीकाकरण अभियान, महिलाओं के लिए विशेष व्यवस्था, सेकेंड डोज के लिए अलग से टीकाकरण काउंटर की व्यवस्था, पोलियो अभियान की तर्ज पर डोर-टू-डोर टीकाकरण अभियान जैसी हर नई पहल पर न सिर्फ पूरा ध्यान रखते हैं, बल्कि उससे जुड़े कर्मचारियों, उपकरणों, कोरोना टेस्टिंग और प्रतिदिन के टीकाकरण के आंकड़ों या टीकाकरण से जुड़ी किसी भी समस्या पर भी पैनी नजर है, ताकि समय पर उसका समाधान उपलब्ध करा सकें। ज्ञानेन्द्र सिंह कहते हैं कि आज नालंदा जिले में कोरोना वैक्सीनेशन के आंकड़े को देखकर काफी संतोष होता है। उच्चाधिकारियों के निर्देशन और कर्मचारियों के सहयोग से हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

1 2 3 4 94