आने वाला है बाढ़ का मौसम, जर्जर बांधों, नावों और चापाकलों की करा लें मरम्मत, जरूरी दवाएं भी खरीद लें

आने वाला है बाढ़ का मौसम, जर्जर बांधों, नावों और चापाकलों की करा लें मरम्मत, जरूरी दवाएं भी खरीद लें

नालंदा में संभावित बाढ़ एवं सुखाड़ की पूर्व तैयारी को लेकर जिलाधिकारी ने संबंधित पदाधिकारियों के साथ की वर्चुअल बैठक

अविनाश पांडेय || बिहारशरीफ

नालंदा जिले में संभावित बाढ़ एवं सुखाड़ पूर्व तैयारी को लेकर जिलाधिकारी योगेंद्र सिंह ने शनिवार को संबंधित अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक की।

इस दौरान उन्होंने जर्जर बांधों, सड़कों और चापाकलों की मरम्मत करने तथा एन्टी रैबीज, एन्टी वेनम (सर्प दंश में काम आने वाला) इंजेक्शन के साथ जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

बैठक में डीएम द्वारा दिए गए महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश

-जिला पशुपालन पदाधिकारी पशुचारे की दर एवं आपूर्तिकर्ता के निर्धारण के लिए निविदा की कार्रवाई सुनिश्चित करें

-पशु दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित रखने के लिए आवश्यकता का आकलन करें

-बाढ़ की स्थिति में पशु शरण स्थली को चिन्हित करें

-जिला कृषि पदाधिकारी आकस्मिक फसल योजना तैयार करें

-जिला मत्स्य पदाधिकारी संभावित क्षति के आकलन के लिए सारा डाटा बेस पूर्व से तैयार रखें

-जिला आपूर्ति पदाधिकारी खाद्यान्न का पर्याप्त स्टॉक सुनिश्चित करें

-आपदा प्रबंधन एवं राहत वितरण से संबंधित सभी सामग्रियों की दर एवं आपूर्तिकर्ता के निर्धारण के लिए जिला स्तर से निविदा निकाली जा चुकी है। निविदा का निष्पादन करते हुए यह प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी

-सभी प्रखंडों में संस्थापित वर्षा मापक यंत्र का 24 घंटे के अंदर भौतिक सत्यापन करते हुए आवश्यकतानुसार मरम्मत सुनिश्चित कराने का निर्देश

-कार्यपालक अभियंता विद्युत आपूर्ति आवश्यक संसाधनों की स्टॉकिंग एवं क्विक रिस्पांस टीम की व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु कार्रवाई करें

-आपदा से संबंधित विभिन्न विभागों एवं स्तरों पर किए जाने वाले कैजुअल कार्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले श्रमिक एवं अन्य लोगों को यथासंभव पूर्व से चिन्हित कर सभी का कोविड वैक्सीनेशन सुनिश्चित कराएं

-संभावित बाढ़ की स्थिति में सुरक्षित मानव आश्रय स्थल चिन्हित करते हुए लाइट, पेयजल एवं शौचालय की व्यवस्था सुनिश्चित करें

-कोविड संक्रमण काल को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के उद्देश्य से अधिक से अधिक उपयुक्त आश्रय स्थलों को चिन्हित करें

-पथ निर्माण विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, फ्लड कंट्रोल एवं अन्य विभागों को सभी सड़क, बांध तटबंध का भौतिक सत्यापन कर, कोई भी क्षतिग्रस्त या मरम्मत योग्य पॉइंट पाया जाए तो इसकी तत्काल मरम्मत कराएं

-फ्लड कंट्रोल के कार्यपालक अभियंता सभी बांधों एवं तटबंधों का भौतिक सत्यापन संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी के साथ संयुक्त रूप से सुनिश्चित करें

-फ्लड फाइटिंग के लिए आवश्यक सामग्रियों का भंडारण उपयुक्त स्थानों पर सुनिश्चित करते हुए संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी के साथ इसका संयुक्त निरीक्षण किया जाए

-जिले में मरम्मत योग्य सभी नावों की तत्काल मरम्मत सुनिश्चित करें सभी अंचल अधिकारी

-सभी अंचल अधिकारियों को स्थानीय स्तर पर गोताखोरों को पूर्व से चिन्हित रखने का निर्देश

-पेयजल की स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखें। चापाकलों की त्वरित मरम्मत एवं आवश्यकता पड़ने पर टैंकर की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं

-सभी नगर निकाय समय से सभी नालों की उड़ाही सुनिश्चित कराएं

-हैलोजन टेबलेट, एंटी रेबीज तथा सर्पदंश की दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करें

दो हफ्ते बाद फिर होगी समीक्षा, किए गए कार्यों का देना होगा ब्योरा

जिलाधिकारी ने कहा कि सभी पदाधिकारी अपने अपने दायित्व का समयबद्ध ढंग से निर्वहन करें। दो सप्ताह बाद पुनः तैयारियों की गहन समीक्षा की जाएगी।