Health Alert : बारिश के मौसम में बच्चों को ऐसे रखें स्वस्थ

मानसून आ चुका है। रुक-रुककर बारिश हो रही है, लेकिन बारिश के मौसम में कई बीमारियों के फैलने का खतरा भी बढ़ जाता है। विशेष रूप से इस मौसम में सर्दी, खांसी, बुखार जैसे वायरल रोग होने की आशंका हमेशा बनी रहती है। ऐसे में छोटे बच्चों खासकर पांच साल तक के बच्चों को भी इन संक्रामक और वायरल रोगों से बचाने की जरूरत है, क्योंकि उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। इससे इन बच्चों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने का भी खतरा रहता है। इसलिए बच्चों की अधिकाधिक देखभाल जरूरी है, ताकि मौसमी बीमारी व कोरोना वायरस के संक्रमण से उन्हें बचाया जा सके।

03 जुलाई, 2021 का दैनिक राशिफल : Daily Horoscope 03 July 2021

ज्योतिषाचार्य डॉ. सुधानंद झा बता रहे हैं सभी 12 राशियों के जातकों के लिए कैसा रहेगा आज का दिन? कैसा रहेगा आपका व्यावसायिक और पारिवारिक जीवन? आचार्य दिन को शुभ बनाने के भी उपाय बता रहे हैं।

मुलेठी से बन सकती है कोरोना की दवा

केंद्र सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) के अंतर्गत कार्यरत राष्ट्रीय मस्तिष्क अनुसंधान केंद्र (एनबीआरसी) के वैज्ञानिकों की एक टीम ने कोविड-19 की दवा विकसित करने के संभावित स्रोत के रूप में मुलेठी की पहचान की है, जो आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली एक जड़ी-बूटी है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि इस जड़ी-बूटी की जड़ में पाया जाने वाला ग्लाइसीराइज़िन नामक एक सक्रिय तत्व रोग की गंभीरता को कम करता है और वायरल की प्रतिकृति बनने की प्रक्रिया को अवरुद्ध करने में भी सक्षम है।
यह खोज महत्वपूर्ण है क्योंकि अब भी कोविड -19 संक्रमण के इलाज के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है।

30 जून, 2021 का दैनिक राशिफल : Daily Horoscope 30 June 2021

ज्योतिषाचार्य डॉ. सुधानंद झा बता रहे हैं सभी 12 राशियों के जातकों के लिए कैसा रहेगा आज का दिन? कैसा रहेगा आपका व्यावसायिक और पारिवारिक जीवन? आचार्य दिन को शुभ बनाने के भी उपाय बता रहे हैं।

बच्चों को ऐसे बचाएं कोरोना की तीसरी लहर से

देश में कोरोना की दूसरी लहर कमोबेश खत्म होने के बाद अब लोगों को तीसरी लहर की आशंका सताने लगी है। इसकी वजह है कि वैज्ञानिकों ने आगाह किया है कि देश में कोरोना की तीसरी लहर अवश्य आएगी, जिसका सबसे ज्यादा प्रभाव बच्चों पर पड़ सकता है। ऐसे में बच्चों की सुरक्षा और इलाज के लिए स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस) ने विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

कोरोना संक्रमण की जांच अब कहीं भी, कभी भी, वह भी पंद्रह मिनट में

कोरोना संक्रमण की त्वरित जांच के लिए हाल में वैज्ञानिकों ने ‘सेंसिट रैपिड कोविड-19 एजी किट’ विकसित की है। यह महज 15 मिनट के भीतर कोरोना संक्रमण की जांच करने में सक्षम है। इस किट के इजाद को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि जांच में विलंब के कारण कोरोना संक्रमितों के इलाज में भी विलंब हो जाता है। इस कारण कई बार संक्रमितों को बचाना संभव नहीं हो पाता। ‘सेंसिट रैपिड कोविड-19 एजी किट’ संदिग्ध व्यक्ति से लिए गए नासॉफिरिन्जियल स्वैब का उपयोग करके नमूने एकत्र कर उसकी जांच करती है। यह किट ‘क्रोमैटोग्राफिक इम्यूनोसे’ तकनीक पर आधारित है। इसमें जैव-रासायनिक मिश्रण में मौजूद प्रोटीन का पता एंटीबॉडी के उपयोग से लगाया जाता है।

1 2 3 4 12