लखनऊ के इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी को यूजीसी ने पांच साल के लिए दी शैक्षिक स्वयत्तता

तकनीकी कारणों से दो साल से स्थगित थी स्वयत्तता, निदेशक ने दी बधाई

senani.in || डिजिटल डेस्क

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सरकारी इंजीनियरिंग संस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (आईईटी), लखनऊ को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा पांच वर्षों के लिए शैक्षिक स्वायत्तता दी गई है। यूजीसी द्वारा सोमवार को इस संबंध में पत्र भी जारी कर दिया गया है।

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) से संबद्ध संस्थान आईईटी की शैक्षिक स्वायत्तता कुछ कारणों से पिछले दो वर्षों से स्थगित चल रही थी। एकेटीयू के कुलपति एवं संस्थान के निदेशक प्रो. विनीत कंसल ने बताया कि संस्थान में क्वालिटी एजुकेशन के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है। छात्र-शिक्षक अनुपात को मानक के अनुरूप बनाया गया है। संस्थान की पांच ब्रांचों को एनबीए से मान्यता मिली है। यूजीसी के मानकों को पूरा करने के लिए पिछले कुछ महीनों में किये गए प्रयासों का ही नतीजा है कि यह स्वयत्तता दोबारा हासिल हो पाई है। निदेशक के अनुसार दरअसल वर्ष 2018-19 से लंबित शैक्षिक स्वायत्तता ही यूजीसी द्वारा प्रदान की गई है। संस्थान की स्थापना वर्ष 1984 में हुई थी। तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में इसका प्रमुख स्थान है।

Leave a Reply