भारतीय नौसेना को अमेरिका से एमएच-60आर मल्टी रोल हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी शुरू

2.4 अरब डॉलर में 24 हेलीकॉप्टरों के लिए हुए समझौते के तहत दो हेलीकॉप्टरों की पहली खेप अमेरिका में आयोजित एक समारोह में इंडियन नेवी को हासिल हुई

आधुनिक तकनीक से लैस ये हेलीकॉप्टर हर मौसम में अभियान चलाने में हैं सक्षम, इनसे भारतीय नौसेना की क्षमता में होगी और वृद्धि

senani.in || डिजिटल डेस्क

भारतीय नौ सेना को अमेरिका से खरीदे गए एमएच-60आर मल्टी रोल हेलिकॉप्टर (एमआरएच) की खेप मिलनी शुरू हो गई है।

लॉकहीड मार्टिन कॉर्पोरेशन द्वारा निर्मित ऐसे 24 हेलीकॉप्टरों की खरीद के लिए लगभग 2.4 अरब डॉलर का समझौता हुआ है। इस सौदे की पहली खेप के रूप में दो हेलिकॉप्टर भारतीय नौसेना ने अमेरिका के सैन डिएगो के नॉर्थ आइलैंड स्थित नेवल एयर स्टेशन में शुक्रवार को आयोजित एक समारोह में अमेरिकन नेवी से स्वीकार किए। समारोह में इन हेलीकॉप्टरों का अमेरिकी नौसेना से भारतीय नौसेना में औपचारिक रूप से स्थानांतरण किया गया, जिनको अमेरिका में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने स्वीकार किया।

दस्तावेजों का आदान-प्रदान

अमेरिका के नॉर्थ आइलैंड स्थित नेवल एयर स्टेशन में शुक्रवार को आयोजित समारोह में मौजूद अमेरिका में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू व दोनों देशों के अधिकारी। फोटो क्रेडिट : इंडियन नेवी

समारोह में अमेरिकी नौसेना के वाइस एडमिरल केनेथ व्हाइटसेल, कमांडर नेवल एयर फोर्सेज और वाइस एडमिरल रवनीत सिंह, नौसेना उप प्रमुख (डीसीएनएस), भारतीय नौसेना के बीच हेलीकॉप्टर दस्तावेजों का आदान-प्रदान भी हुआ।

भारतीय जरूरतों के हिसाब से तैयार किए गए हैं ये हेलीकॉप्टर

एमएच-60आर हेलीकॉप्टर। फोटो क्रेडिट : इंडियन नेवी

लॉकहीड मार्टिन कॉर्पोरेशन, यूएसए द्वारा निर्मित एमएच-60आर हेलीकॉप्टर हर मौसम में कारगर हैं। अत्याधुनिक एवियोनिक्स, सेंसर से लैस ये हेलीकॉप्टर कई मिशनों के लिहाज से बनाए गए हैं। इस तरह के 24 हेलीकॉप्टर अमेरिकी सरकार से विदेशी सैन्य बिक्री के तहत खरीदे जा रहे हैं। हेलीकॉप्टरों को भारत के अनेक प्रकार के उपकरणों और हथियारों के दृष्टिकोण से संशोधित भी किया जाएगा।

अमेरिका में प्रशिक्षण ले रहे पायलट

एमएच-60आर हेलीकॉप्टर। फोटो क्रेडिट : इंडियन नेवी

इन हेलीकॉप्टरों के शामिल होने से भारतीय नौसेना की क्षमताओं में और इजाफा होगा। इन शक्तिशाली हेलीकॉप्टरों पर प्रशिक्षण के लिए भारतीय पायलट दल का पहला जत्था इस समय अमेरिका में है।

Leave a Reply