Nalanda News : अपनाएं परिवार नियोजन, दें खुशहाली को आमंत्रण

परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए नालंदा के सदर अस्पताल में लगा मेला

जिले के सभी प्रखंडों में अलग-अलग तिथियों में लगाया जा रहा परिवार नियोजन मेला

senani.in
अविनाश पांडेय || बिहारशरीफ

जनसंख्या नियंत्रण के लक्ष्य को पाने के लिए पूरे बिहार में 11 से 31 जुलाई तक परिवार नियोजन पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसी क्रम में मंगलवार को सिविल सर्जन डॉ. सुनील कुमार ने सदर अस्पताल परिसर में परिवार नियोजन मेले का उद्घाटन किया। इस अवसर पर सिविल सर्जन ने कहा कि मेले का मुख्य उद्देश्य समाज में प्रजनन स्वास्थ्य को सुदृढ़ करते हुए स्वस्थ और नियोजित परिवार के लक्ष्य को पूरा करना है, क्योंकि एक छोटा और सुनियोजित परिवार मां व शिशु को बेहतर सेहत देने के साथ पूरे परिवार के लिए सुख और खुशहाली लाता है।

एक ही जगह सभी साधनों को अपनाने की मिल रही सुविधा

सिविल सर्जन ने बताया कि मेले के आयोजन से एक ही स्थान पर परिवार नियोजन के स्थायी साधनों जैसे पुरुष नसबंदी और महिला बंध्याकरण की जानकारी, फायदे, पंजीकरण से ऑपरेशन तक की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। इनके अलावा अलग-अलग स्टाल लगाकर अस्थायी साधनों जैसे अंतरा, छाया, निरोध, कॉपर टी, माला एन के साथ ही निक्षय किट के वितरण और परिवार नियोजन से जुड़े सभी परामर्श निःशुल्क उपलब्ध हैं। मेले में नियुक्त स्वास्थ्यकर्मियों, एएनएम और आशा कार्यकर्ताओं द्वारा परिवार नियोजन साधनों को अपनाने पर दी जाने वाले प्रोत्साहन राशि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

परिवार नियोजन मामलों में बढ़ रहा समुदाय का रुझान

उद्घाटन समारोह में उपस्थित परिवार नियोजन सलाहकार उज्ज्वल कुमार ने बताया कि सुबह 11 बजे मेले के उद्घाटन से मध्याह्न तक पूरे मेला परिसर में लाभार्थियों की लगातार बढ़ती भीड़ इस बात का संकेत है कि पहले की अपेक्षा परिवार नियोजन के मामलों को अपनाने में लोगों की उत्सुकता काफी बढ़ी है। वैसे भी मौजूदा राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के परिवार नियोजन साधनों के आंकड़ों में आई दोगुने से भी ज्यादा की वृद्धि इस बात कि पुष्टि करने के लिए काफी है। जहां सर्वेक्षण -4 (2015-16 ) में परिवार नियोजन के साधनों का आंकड़ा 30.5 प्रतिशत था। वहीं, पांच साल में यह बढ़कर 72.3 प्रतिशत हो गया है। हालांकि, स्थायी साधनों की अपेक्षा अस्थायी साधनों के प्रति लोगों का रुझान ज्यादा है।

‘आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी’ है इस वर्ष का थीम

मौके पर उपस्थित अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि इस वर्ष के परिवार नियोजन पखवाड़े का थीम ‘आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी’ है, ताकि कोरोना काल में भी परिवार नियोजन सेवाएं मुकम्मल चलती रहें और इनमें किसी प्रकार की रुकावट न आए। इसके लिए प्रत्येक प्रखंड प्राथमिक चिकित्सा केंद्र पर परिवार नियोजन शिविर लगाया जा रहा है तथा जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा पूरे पखवाड़े अलग अलग गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा। मेले में सदर प्रखंड के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. राम कुमार, केयर के जिला कार्यक्रम प्रबन्धक डॉ. संजय महापात्र और दूसरे स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थे।

Leave a Reply