पश्चिम बंगाल से नेपाल को 24 मीट्रिक टन मूंगफली का निर्यात

एपेडा की सहायता से मिदनापुर के किसानों ने हासिल की उपलब्धि, दुनिया के कई देशों में है भारतीय मूंगफली की मांग

senani.in || डिजिटल डेस्क

पश्चिम बंगाल से नेपाल को 24 मीट्रिक टन (एमटी) मूंगफली का निर्यात किया गया है।

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर जिले के किसानों से यह मूंगफली खरीदी गई और उसे केंद्र सरकार की संस्था कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपेडा) में पंजीकृत लाडूराम प्रोमोटर्स प्रा.लि. कोलकाता ने निर्यात किया।

अभी गुजरात और राजस्थान का दबदबा

पारंपरिक रूप से देखा जाए तो मूंगफली के निर्यात में गुजरात और राजस्थान की बड़ी हिस्सेदारी है। पश्चिम बंगाल से मूंगफली का निर्यात करने पर देश के पूर्वी इलाके में फसल की निर्यात क्षमता में इजाफा होगा।

इन देशों में है भारतीय मूंगफली की मांग

वर्ष 2020-21 में भारत ने 5381 करोड़ रुपये की 6.38 लाख टन मूंगफली का निर्यात किया है। भारत से मूंगफली मुख्य रूप से इंडोनेशिया you, वियतनाम, फिलीपीन्स, मलेशिया, थाईलैंड, चीन, रूस, युक्रेन, संयुक्त अरब अमीरात और नेपाल जैसे देशों को निर्यात की जाती है।

मूंगफली लेकर नेपाल जाने को तैयार ट्रक। फोटो क्रेडिट : एपेडा

निर्यात में एपेडा की भूमिका महत्वपूर्ण

पीनट डॉट नेट जैसी पहलों के जरिये एपेडा ने मूंगफली के निर्यात को आकार दिया है। इस प्रक्रिया में क्रेता पंजीकरण, एपेडा में पंजीकृत मूंगफली इकाइयों द्वारा सामान के बैच का निर्धारण, निर्यात प्रमाणपत्र के लिए आवेदन और निर्यातक द्वारा कंटेनरों में माल भरने का प्रमाणपत्र शामिल है।

इस साल मूंगफली के उत्पादन में वृद्धि का अनुमान

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने तिलहन के उत्पादन का जो अग्रिम अनुमान लगाया है, उसके अनुसार 2020-21 में मूंगफली उत्पादन 101.19 लाख टन होगा, जबकि 2019-20 में इसका उत्पादन अनुमान 99.52 लाख टन था।

बिहार से ब्रिटेन भेजी गई जीआई प्रमाणित शाही लीची की पहली खेप https://senani.in/2021/05/25/first-consignment-of-gi-certified-shahi-litchi-from-bihar-exported-to-the-u-k/

रबी-खरीफ दोनों में मूंगफली की खेती

देश में गुजरात मूंगफली का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है। उसके बाद राजस्थान, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल आते हैं। मूंगफली की फसल खरीफ और रबी, दोनों मौसमों में होती है। कुल पैदावर में खरीफ मौसम का हिस्सा 75 प्रतिशत से अधिक है।

Leave a Reply