नालंदा : 35 दिन में ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएंगे जिले के सरकारी अस्पताल

सांसद कौशलेंद्र कुमार ने जिले में तीन ऑक्सीजन प्लांट लगाने और तीनों प्रमुख सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन की पाइपलाइन बिछाने के लिए अपनी निधि से जारी की राशि, 35 दिन में शुरू हो जाएंगे प्लांट

senani.in

अविनाश पांडेय || बिहारशरीफ

बिहार के नालंदा जिले में भविष्य में मेडिकल ऑक्सीजन की किल्लत न हो, इसके लिए स्थानीय सांसद कौशलेंद्र कुमार आगे आए हैं। उन्होंने अपनी सांसद निधि से राशि जारी करने की सिफारिश की है। साथ ही जिले के तीन अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई की पाइपलाइन बिछाने के लिए भी राशि जारी की है। सब कुछ सही रहा तो ऑक्सीजन के तीनों प्लांट अगले 35 दिनों में काम करना शुरू कर देंगे। इसके साथ ही जिले के तीन प्रमुख अस्पताल ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएंगे।

नालंदा सांसद कौशलेंद्र कुमार ने एक सप्ताह पूर्व जिला मुख्यालय समेत तीन जगहों पर ऑक्सीजन प्लांट की अनुशंसा अपनी सांसद निधि से की है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 की दूसरे लहर ने हम सबको बड़ी सीख दी है। पिछले दो सप्ताह से ऑक्सीजन प्लांट मशीनरी लगाने वाली कुछ कंपनियों के प्रतिनिधियों से बात चल रही थी। इसके लिए नालंदा में तीन अलग-अलग जगहों पर प्लांट स्थापित किए जाने को लेकर सहमति बनी। हमने नालंदा के लोगों के स्वास्थ्य हित को ध्यान में रखते हुए यथाशीघ्र तीनों ऑक्सीजन प्लांट की अनुशंसा कर दी है। साथ ही जितनी भी राशि लगे, उसका प्राकलन जिला योजना पदाधिकारी से मांगा है।

इन अस्पतालों में बिछेगी ऑक्सीजन की पाइपलाइन

सांसद ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट ही नहीं, बल्कि सदर अस्पताल बिहारशरीफ, अनुमंडल अस्पताल राजगीर एवं अनुमंडल अस्पताल हिलसा, तीनों अस्पतालों में ऑक्सीजन पाइप लाइन बिछाने को भी उन्होंने निर्देशित किया है, जिससे मरीजों के बेड तक ऑक्सीजन सप्लाई पाइप लाइन द्वारा की जा सके।

कई दौर की हो चुकी वार्ता

नालंदा के जिला योजना पदाधिकारी उदय शंकर प्रसाद ने बताया कि सभी आवश्यक मापदंडों को पूरा करते हुए जिलाधिकारी के निर्देश पर उप विकास आयुक्त, सिविल सर्जन एवं अन्य वरीय पदाधिकारी के साथ इस पर बैठक हो चुकी है। सांसद कई दौर की वार्ता मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाने वाली कंपनियों, जिला पदाधिकारी और सिविल सर्जन के साथ कर चुके हैं। लगभग 35 दिनों में तीनों जगहों पर ऑक्सीजन प्लांट काम करना शुरू कर देंगे।

Leave a Reply