बिहार : कोरोना संक्रमित शव के अंतिम संस्कार के लिए नेता ने लिए 16 हजार रुपये, कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से श्मशान भिजवाया पार्थिव शरीर

बिहार के नालंदा से आई दिल दहला देने वाली तस्वीर, मुहल्ले वाले अंतिम संस्कार के लिए नहीं आए आगे, आरोपित नेता के खिलाफ सीएम और अधिकारियों से मृतक के घरवालों ने की शिकायत

senani.in

अविनाश पांडेय/बिहारशरीफ

कोरोना महामारी के इस काल में भी कुछ लोग आपदा में अवसर की तलाश में लगे हैं। अस्पताल से लेकर शमशान तक लूट मची है। कुछ ऐसा ही मामला बिहारशरीफ नगर निगम के वार्ड नंबर आठ से आया है, जो मानवता को शर्मसार करता है।

सोहसराय वार्ड आठ के जलालपुर में किराये के मकान में रहने वाले मनोज कुमार उर्फ गुड्डू की मौत 13 मई को कोरोना से हो गई थी। युवक की माैत के बाद परिवार के लोगों के समक्ष सबसे बड़ी समस्या दाह संस्कार की थी। ऐसा इसलिए क्योंकि कोरोना संक्रमण से मौत के कारण शव को कंधा तक देने के लिए कोई तैयार नहीं था। ऐसे में मृतक के मामा दिलीप हलवाई ने एक स्थानीय नेता से मदद मांगी। उक्त नेता ने पहले 22 हजार रुपये मांगे। घर वालों के काफी अनुनय-विनय पर दाह संस्कार का रेट 16 हजार 5 सौ रुपये तय किया गया।

बात तय होने के थोड़ी ही देर बाद पीपीई किट पहनकर कूड़ा ढोने वाली गाड़ी लेकर कुछ सफाई कर्मी आए। इसी कूड़ा ढोने वाले वाहन में सफाई कर्मी शव डालकर 17 नंबर स्थित शमशान घाट ले गए। वहां जैसे-तैसे शव का अंतिम संस्कार किया गया। शव जलने के तुरंत बाद उक्त नेता ने पैसों की मांग की। परिजनों द्वारा नेता को 16 हजार 5 सौ रुपये दिए गए। लेकिन, बदले में कोई रसीद नहीं मिली। इस पूरी घटना के कई लोग साक्षी भी थे। मौके मौजूद लोगों ने कोरोना से मरने वाले लोगों के दाह संस्कार की व्यवस्था सरकार द्वारा नि:शुल्क होने की बात कही गई। लेकिन, लोगों की बात काटते हुए नेता ने कहा कि ऐसा कोई भी प्रावधान नहीं है। सब कहने की बातें हैं। लेकिन, जब इस बात की जानकारी निगम कार्यालय से ली गई तो पता चला कि दाह संस्कार के लिए पैसे लेने का कोई प्रावधान नहीं है। अपने को ठगा महसूस कर मृतक के मामा ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री सहित तमाम अधिकारियों को पत्र के माध्यम से करते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

आरोप संगीन, कठोर कदम उठाएगा निगम : नगर आयुक्त

इस संबंध में नगर आयुक्त अंशुल अग्रवाल ने कहा कि लगाए गए आरोप संगीन हैं। कोरोना से मरने वाले लोगों के नि:शुल्क दाह संस्कार का प्रावधान है। शिकायतकर्ता ने नगर निगम के कूड़ा ढोने वाले वाहन में शव ले जाने की बात कही है। जांच में अगर शिकायत सही मिली तो निगम कठोर कदम उठाएगा।

Leave a Reply