स्वाद में कड़वा, सेहत के लिए मीठा है करेला

कई तरह की बीमारियों से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में लाभकारी, गर्मियों में जमकर करें सेवन

सोनाली सिंह || लखनऊ

शैलेश त्रिपाठी, आयुर्वेद विशेषज्ञ

कहा जाता है, हर लाभकारी चीज कड़वी होती है। करेला भी इन्हीं में से एक है। ग्रीष्म ऋतु में करेले का सेवन शरीर की गर्मी को कम करता है और शरीर को ठंडक प्रदान करता है। करेला अपने कड़वे स्वाद के लिए ही नहीं, बल्कि अपने औषधीय गुणों के लिए भी जाना जाता है। औषधि के रूप में यह रामबाण माना जाता है।

भोपाल के पंडित खुशीलाल शर्मा गवर्नमेंट आयुर्वेद कॉलेज एंड इंस्टीट्यूट के बैचलर स्टूडेंट एवं आयुर्वेद के विशेषज्ञ शैलेश त्रिपाठी के अनुसार करेले की महत्ता लोगों को तब समझ आई जब भयंकर बीमारियों ने उन्हें चपेट में लेना शुरू किया। मधुमेह और रक्तचाप जैसी बीमारियों ने जब बड़ी तादाद में लोगों को दबोचना प्रारंभ किया तो कड़वे स्वाद के बजाय अपने मीठे गुणों के लिए करेला प्रसिद्ध हो गया। इसकी सब्जी लोग अक्सर नापसंद करते हैं। लेकिन, अपने पौष्टिक और औषधीय गुणों के कारण यह दवा के रूप में भी काफी लोकप्रिय है। खासतौर पर गर्मी के मौसम में नियमित सेवन करने से यह शरीर को तो ठंडक तो प्रदान करता ही है, विभिन्न प्रकार की बीमारियों से भी बचाता है।

विटामिन और खनिज की प्रचुरता

शैलेश त्रिपाठी के अनुसार एक शोध में पाया गया है कि करेले में प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, बी और सी पाए जाते हैं। इसके अलावा कैरोटीन, बीटाकैरोटीन, लूटीन, आयरन, जिंक, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मैगनीज जैसे तत्व भी इसमें पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत लाभकारी हैं।

करेले के फायदे

-करेला लिवर के लिए लाभकारी माना जाता है

-यह पीलिया, लकवा, गठिया मोटापा, डायबिटीज, उल्टी दस्त, पाचन शक्ति, हाथ-पैर में जलन, खून साफ करना, कफ, दमा, हैजा, रक्त विकार आदि समस्याओं को दूर करने में लाभकारी माना जाता है

-इसके अलावा करेले के और भी कई फायदे हैं। जैसे यह तलवों की जलन दूर करता है

-फुंसी से आराम दिलाता है

-मुंह के छालों को ठीक करता है।
निमोनिया और स्तनों में खून का प्रवाह बढ़ाने में भी यह कारगर है

-ऐसा माना जाता है कि अगर करेले के 20 ग्राम रस को शहद में मिलाकर कुछ दिनों तक पिया जाए तो पथरी गल जाती है और पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाती है

-करेले के पत्तों का रस निकलकर जोड़ों में मालिश करने से दर्द दूर होता है। एक चौथाई करेले का रस छाछ के साथ दिन में एक से दो बार पीने से भूख बढ़ती है।

One comment

Leave a Reply