वायुसेना की ताकत में इजाफा, तीन और राफेल लड़ाकू विमान पहुंचे भारत

फ्रांस से नॉन स्टॉप उड़ान में पहुंचे भारत, ओमान की खाड़ी में संयुक्त अरब अमीरात सेना के परिवहन विमान से भरा गया ईंधन

SENANI.IN || संवाददाता || डिजिटल डेस्क

लड़ाकू विमान राफेल साभार : ट्विटर, भारतीय वायुसेना

फ्रांस से खरीदे गए राफेल लड़ाकू विमानों का चौथा बेड़ा बुधवार शाम गुजरात के जामनगर हवाई अड्डे पर पहुंचा। इस बेड़े में तीन विमान शामिल हैं।

बिना कहीं रुके फ्रांस से भारत पहुंचे इन विमानों में ओमान की खाड़ी के ऊपर संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की वायु सेना के परिवहन विमान से हवा में ही ईंधन भरा गया।

बाद में इन तीनों विमानों को अम्बाला वायु सैनिक अड्डे पर गोल्डन ऐरोज स्क्वाड्रन में शामिल किया जाएगा। इन तीनों के आने के बाद वायुसेना में राफेल विमानों की संख्या 14 हो जाएगी। साथ ही वायुसेना की ताकत में भी भारी वृद्धि होगी।

2015 में फ्रांस से इनकी खरीद के लिए हुआ था समझौता

साभार : भारतीय वायुसेना द्वारा ट्वीट किया गया राफेल की लैंडिंग का वीडियो

भारत ने 59 हजार करोड़ रुपये में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए वर्ष 2015 में फ्रांस सरकार के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किया था। इन विमानों की पहली खेप पिछले साल 29 जुलाई को फ्रांस से भारत आई थी। सितंबर 2020 में अम्बाला वायुसैनिक अड्डे पर हुए एक कार्यक्रम में राफेल लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था।

हाशिमारा में बन रहा दूसरा स्क्वाड्रन

अम्बाला के अलावा पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन बनाया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार अगले साल तक भारत को सभी 36 राफेल लड़ाकू विमानों की आपूर्ति फ्रांस कर देगा। अप्रैल में पांच और राफेल विमानों के भारत पहुंचने की संभावना है।

Leave a Reply