भारत ने विकसित देशों को पीछे छोड़ा, रिकॉर्ड छह करोड़ लोगों को लगी कोरोना वैक्सीन

देश में 24 करोड़ से अधिक की कोविड जांच

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, पंजाब, गुजरात, मध्य प्रदेश और तमिलनाडु में सबसे ज्यादा मिल रहे कोरोना के मामले

केंद्र सरकार ने कोरोना पर नियंत्रण के लिए राज्यों को कड़े कदम उठाने की दी सलाह

senani.in, डिजिटल डेस्क

प्रतीकात्मक तस्वीर

भारत ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में विकसित देशों को भी पीछे छोड़ते हुए उल्लेखनीय उपलब्धि दर्ज कराई है। देश का कुल टीकाकरण कवरेज शनिवार को छह करोड़ के आंकड़े को पार कर गया।

रविवार सुबह सात बजे तक की अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार देश में 9,85,018 सत्रों के जरिये 6,02,69,782 लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई जा चुकी है।
अभी तक लगाए गए कुल टीकों के 60 प्रतिशत में आठ राज्यों की भागीदारी है। इन आठ राज्यों में 30 लाख से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं।

इन राज्यों में मिले कोरोना के सबसे ज्यादा केस

सात राज्यों–महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, पंजाब, गुजरात, मध्य प्रदेश और तमिलनाडु ने कोविड के दैनिक नए मामलों में उच्च संख्या दर्ज कराई है। पिछले 24 घंटों में दर्ज किए गए नए मामलों (62,714) में इन राज्यों की 81.46 प्रतिशत भागीदारी है। पिछले 24 घंटों में रिपोर्ट किए गए नए मामलों के 84.74 प्रतिशत में इन आठ राज्यों की भागीदारी है। 35,726 दैनिक नए मामलों के साथ महाराष्ट्र ने सबसे अधिक मामले दर्ज कराए हैं। 3162 मामलों के साथ छत्तीसगढ़ दूसरे स्थान पर है, जबकि कर्नाटक ने 2886 नए मामले दर्ज कराए।

ज्यादा प्रभावित राज्यों के साथ केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने की बैठक

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने शनिवार को अपर मुख्य सचिवों, प्रधान सचिवों तथा 12 राज्यों के सचिवों (स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण) तथा 46 जिलों, जो बढ़ते मामलों तथा कोविड-19 के कारण बढ़ती मृत्यु दर से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं, के पालिका आयुक्तों तथा जिला कलेक्टरों के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में कोविड के नए मामलों में तेजी पर अंकुश लगाने के लिए एक पांच-गुनी कार्यनीति का सुझाव दिया। ये राज्य हैं-महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, जम्मू और कश्मीर, कर्नाटक, पंजाब और बिहार।

संक्रमण दर पांच फीसद से भी कम

एक अन्य उल्लेखनीय घटनाक्रम में, देशभर में की गई कुल जांचों की संख्या 24 करोड़ से अधिक हो गई है। जबकि, कुल पॉजिटिविटी दर 5 प्रतिशत से नीचे बनी हुई है। 15 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय औसत (1,74,602) की तुलना में प्रति मिलियन कम जांच है। दैनिक पॉजिटिविटी दर में 5 प्रतिशत से मामूली वृद्धि (5.04 प्रतिशत) हुई है। आठ राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों में 5.04 प्रतिशत के राष्ट्रीय औसत की तुलना में साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर अधिक रही है। 22.78 प्रतिशत की साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर के साथ महाराष्ट्र सभी राज्यों की तुलना में सबसे आगे है। भारत के कुल एक्टिव मामले शनिवार को 4,86,310 तक पहुंच गए, जो कुल पॉजिटिव मामलों के 4.06 प्रतिशत हैं। पिछले 24 घंटों में कुल सक्रिय मामलों में 33,663 मामलों की शुद्ध कमी का रुझान देखा गया।

राष्ट्रीय रिकवरी दर 94.59 प्रतिशत

भारत की कुल रिकवरी शनिवार को 1,13,23,762 तक पहुंच गई। राष्ट्रीय रिकवरी दर 94.59 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटों में 28,739 रिकवरी दर्ज की गई। 14,523 रिकवर होने वाले नए मामलों के साथ महाराष्ट्र ने एक दिन में रिकवरी होने वालों की सर्वाधिक संख्या दर्ज कराई है।पिछले 24 घंटों में 312 मौतें दर्ज की गईं। नई मौतों के 82.69 प्रतिशत छह राज्यों से हैं। पिछले 24 घंटों में महाराष्ट्र में सर्वाधिक मौतें (166) दर्ज की गईं, जबकि पंजाब में 45 दैनिक मौतें और केरल में 14 मौतें दर्ज की गईं

इन 14 राज्यों में 24 घंटों में नहीं दर्ज की गई एक भी मौत

जानिए, मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना टीकाकरण पर क्या कहा

पिछले 24 घंटों में 14 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों ने कोविड-19 से एक भी मौत दर्ज नहीं कराई है। ये राज्य हैं- राजस्थान, आंध्र प्रदेश, असम, लक्षद्वीप, लद्दाख (केन्द्र शासित प्रदेश), दादर और नगरहवेली तथा दमन एवं दीव, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, सिक्किम, त्रिपुरा, अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश।

Leave a Reply