…औरत की शान है माहवारी, ममता की पहचान है माहवारी

मेंस्ट्रुअल हेल्थ अवेयरनेस डे पांच फरवरी को, सृजन फाउंडेशन ने शुरू किया पांच दिवसीय पीरियड्स अवेयरनेस कैंपेन

डिजिटल डेस्क, लखनऊ
senani.in

शालिनी सिंह

मासिक धर्म के प्रति महिलाओं की झिझक खत्म करने के लिए लखनऊ की संस्था सृजन फाउंडेशन और इसके द्वारा चलाए जा रहे ‘हिम्मत अभियान’ के को-ऑर्डिनेटर डॉ. अमित सक्सेना लगातार प्रयासरत हैं। इसके लिए संस्था द्वारा वेबिनार, सेमिनार और विभिन्न तरह की गतिविधियां आयोजित की जाती रही हैं। इसी क्रम में मेंस्ट्रुअल हेल्थ अवेयरनेस डे (5 फरवरी) के उपलक्ष्य में सृजन फाउंडेशन द्वारा माहवारी स्वच्छता अभियान ‘हिम्मत’ के तहत पांच दिवसीय जागरूकता अभियान शुरू किया गया है।

पांच दिन चलेगी ऑनलाइन एक्टिविटी, हर दिन अलग थीम

सोनी ठाकुर

एक फरवरी से 5 फरवरी तक चलने वाले इस पीरियड्स अवेयरनेस कैंपेन में ऑनलाइन एक्टिविटीज कराई जा रही हैं। इसमें महिलाएं खुलकर अपने विचार रख रही हैं। साथ ही दूसरी महिलाओं से भी माहवारी पर बोलने की अपील कर रही हैं, ताकि उन्हें तमाम बीमारियों से बचाया जा सके। हर दिन अलग थीम होगा।

पहले दिन लाल साड़ी पहनकर लिखे कुटेशन

संध्या बाठला

इसी श्रृंखला में पहले दिन एक फरवरी, सोमवार को महिलाओं ने लाल साड़ी पहनकर हाथ में चार्ट पेपर पर पीरियड्स से संबंधित कुटेशन लिखे। साथ ही अपने माहवारी पर गर्व होने को प्रदर्शित किया। प्रस्तुत हैं प्रतिभागियों के विचार-

स्नेह बिंदल : नारी होने का गर्व

औरत की शान है माहवारी
ममता की पहचान है माहवारी,
ईश्वर का वरदान है माहवारी
नारी होने का गर्व है माहवारी।

रोमा श्रीवास्तव : मां बनने की ओर कदम

हां, मैं लड़की हूँ और मुझे माहवारी होती है।
यह मेरे मां बनने का कदम है,
मुझे नीचा दिखाने वाले
अशुद्ध मैं नहीं, तुम्हारी सोच है।

शशिप्रभा सिंह : तो सृष्टि कौन रचेगा

हम दाग छुपाएंगे अगर, तो सृष्टि कौन रचेगा?
लाल होने से घबराएंगे, तो सृष्टि कौन रचेगा?

नीरजा द्विवेदी : …तभी तो सृष्टि है

माहवारी है, तभी तो सृष्टि सारी है।

रश्मि पांडेय ने मर्दों को चुनौती देते हुए लिखा

वो भारी ब्लीडिंग और दर्द को हंसते हुए बिताती है,
उसके बाद भी तुमको लगता है कि दुनिया जीतने के लिए उसको तुम्हारी जरूरत है।

स्वाति जैन : बेरंग जिंदगी में भरता है रंग

यह लाल ही लाल को पैदा करता है,
यह रंग ही बेरंग जिंदगी में रंग भरता है।

ज्योती किरन रतन : यह है नारी का धर्म

मासिक धर्म, शर्म नहीं है,
सर्व धर्म वंशवृद्धि का धर्म है।
हटाओ शर्म, अपनाओ हिम्मत,
यह है नारी का धर्म।

जया सिंह : स्त्री शक्ति पर अभिमान

मासिक चक्र से न रहो अंजान,
करो स्त्री शक्ति पर अभिमान।

आज रखें एक मिनट का विचार

डॉ. अमित सक्सेना, को-ऑर्डिनेटर, हिम्मत

‘हिम्मत’ अभियान के कोऑर्डिनेटर डॉ. अमित सक्सेना ने बताया कि 2 फरवरी को प्रतिभागियों को पीरियड्स से संबंधित एक मिनट का अपना विचार रखना होगा।

Leave a Reply