पांच अगस्त को सुंदर योग में होने जा रहा अयोध्या में राम मंदिर के लिए भूमिपूजन, मुहूर्त पर सवाल उठाने वाले गलत : आचार्य

ज्योतिषी डॉ सुधानंद झा ने मुहूर्त को भादो में बताने वालों को दी शास्त्रार्थ की चुनौती

senani.in

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को भूमि पूजन होने जा रहा है। यह कार्य स्वयं प्रधानमंत्री के हाथों होगा। इसकी तैयारियां जोरों से चल रही हैं। इसी बीच कुछ ज्योतिषियों ने यह कहकर विवाद पैदा करने की कोशिश की है कि 5 अगस्त को भादो मास है।

ऐसे में जमशेदपुर के विद्वान ज्योतिषाचार्य डॉ सुधानंद झा ने इस मुहूर्त को सर्वथा उपयुक्त बताते हुए इसमें कमी निकालने वालों की निंदा की है। आचार्य का कहना है कि मंदिर का भूमि पूजन बिल्कुल सही मुहूर्त में होने जा रहा है।

सनातन संस्कृति को बांटने की कोशिश

आचार्य सुधानंद झा कहते हैं कि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सब कुछ ठीक है। यह विरोध सनातन संस्कृति को बांटने का प्रयास है और विरोध करने वाले वही लोग हैं, जो हिंदुओं द्वारा दरगाह पर चादर चढ़ाने को सही मानते हैं, किन्तु साईं बाबा को मुस्लिम बताकर हिंदुओं को बांटने का काम करने जा रहे थे। बीजेपी शासन से पहले साईं बाबा हिंदू थे और बीजेपी शासन आते ही साईं बाबा को मुस्लिम इन्होंने ही बना दिया। आचार्य का कहना है कि जनता ऐसे देश विरोधी धर्मगुरुओं से सावधान रहे।

सूर्य मास के अनुसार 15 अगस्त तक सावन

अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण को भूमि पूजन के लिए मुहूर्त पर आचार्य डॉ सुधानंद झा द्वारा तैयार की गई कुंडली

यह पूछे जाने पर कि क्या राम मंदिर के लिए भूमि पूजन भादव महीने में होने जा रहा है?

आचार्य कहते हैं, नहीं। सूर्य मास के अनुसार पंद्रह अगस्त तक श्रावण ही रहेगा। गृहारंभ, गृहप्रवेश, भूमि पूजन, विवाह, उपनयन, मुंडन संस्कार आदि सौर मास के अनुसार होते हैं। ऐसे में सालभर के पर्व त्योहार चंद्र मास के अनुसार कृष्ण पक्ष में पंचमी तिथि तक चंद्रमा प्रशस्त होते हैं और अयोध्या में भूमि पूजन पंचमी तिथि से पहले ही होने जा रहा है। नक्षत्र, तिथि, दिन, लग्न, नवमांश आदि सबकुछ सही है पांच अगस्त को भूमि पूजन के लिए।

हर दिन शुभ और अशुभ

आचार्य का कहना है कि ज्योतिष शास्त्र में ऐसा कोई मुहूर्त ही नहीं है, जिसमें कोई कमी नहीं हो। खुली चुनौती दे रहा हूं। पांच अगस्त को श्रीराम मंदिर निर्माण भूमि पूजन मुहूर्त के विरोधी पंडितों को कि वो लोग कोई शुभ मुहूर्त बताएं। मैं भी उसमें हजार कमियां निकाल दूंगा, क्योंकि हर दिन में शुभ और अशुभ लगे ही रहते हैं।

सर्वशुद्ध मुहूर्त में हुआ था राम-जानकी विवाह

आचार्य कहते हैं कि इतिहास में केवल भगवान श्री राम और सीता जी का विवाह ही सर्वशुद्ध मुहूर्त में संपन्न हुआ था। बाकी हर दिन में कुछ शुभ तो कुछ पल अशुभ होता है।

आखिरकार नजदीक आ गई शुभ घड़ी

अयोध्या में रामलला के दर्शन करते यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

अयोध्या में रामजन्म भूमि पर भगवान राम का भव्य मंदिर बने, यह जन-जन की अभिलाषा है। कितनी पीढ़ियां भगवन राम का भव्य मंदिर बनने का सपना देखते हुए स्वर्ग सिधार गईं। कितने युद्ध और आंदोलन हुए। अब राम मंदिर के निर्माण की सारी बाधाएं दूर हो चुकी हैं। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री मोदी मंदिर के लिए भूमि पूजन करने आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं मंदिर निर्माण की एक-एक तैयारी पर नजर रखे हुए हैं। मंदिर का निर्माण कार्य तीन वर्षों में पूरा होने की संभावना है। इसको लेकर राम भक्तों में जबर्दस्त उत्साह है।

Leave a Reply