कोरोना का इलाज अब दूर नहीं, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन ने बनाई दोगुनी प्रतिरोधक क्षमता

तीसरे चरण के परीक्षण के नतीजों पर खुशी से उछल पड़े वैज्ञानिक, कोरोना के खात्मे के और करीब पहुंचे

senani.in

डिजिटल डेस्क

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फॉर्मास्युटिकल्स कंपनी एस्ट्राजेनेका द्वारा तैयार की जा वैक्सीन ने परीक्षण में उत्साहजनक परिणाम दिए हैं।

गुरुवार को मीडिया से जुड़े विभिन्न सूत्रों ने बताया कि ह्यूमन ट्रायल में इस वैक्सीन ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दोगुनी प्रतिरोधक क्षमता (डबल डिफेंस) विकसित की है। हालांकि, इस वैक्सीन के पहले चरण के नतीजे अभी सोमवार को जारी किए जाएंगे।

दुनियाभर के वैज्ञानिकों की नजर इस वैक्सीन के निर्माण पर टिकी है, क्योंकि यह परीक्षण तीसरे चरण में पहुंच चुका है।

अमेरिका में भी ह्यूमन ट्रायल हो चुका सफल

इससे पहले अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मोडर्ना में तैयार की जा रही वैक्सीन का 45 लोगों पर पहला ह्यूमन ट्रायल पूरी तरह सफल पाया गया था। अमेरिकी सरकार के प्रमुख इंफेक्शसस डिजीज एक्सपर्ट डॉ एंथोनी फॉसी के सहयोगियों द्वारा विकसित की जा रही इस वैक्सीन का 27 जुलाई से 30 हजार लोगों पर अंतिम परीक्षण शुरू होगा। डॉ फॉसी ने बताया था कि इस वैक्सीन से मरीजों के इम्यून सिस्टम में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है। यह वैज्ञानिकों की उम्मीदों पर पूरी तरह खरी उतरी है।

वैक्सीन की दौड़ में हैं कई देश

कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने की दौड़ में कई देश शामिल हैं। इस्राइल और ब्रिटेन में जहां वैक्सीन ट्रायल फाइनल स्टेज में पहुंच गया है, वहीं रूस ने इसी हफ्ते बताया था कि उसके यहां बन रही वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल पूरा हो चुका है।

भारत की वैक्सीन सबसे पहले 15 अगस्त को होगी लांच

दुनियाभर में वैक्सीन बनाने की चल रही होड़ के बीच भारत की वैक्सीन सबसे पहले लांच होने की उम्मीद है। भारत की वैक्सीन का भी एनिमल ट्रायल पूरा हो चुका है। आईसीएमआर के निर्देशन में बनाई जा रही इस वैक्सीन को अगले माह 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर लांच किए जाने की संभावना है।

Leave a Reply