रास्ता बंद करने पहुंचे रेलकर्मियों को ग्रामीणों ने किया वापस, कहा-पहले वैकल्पिक मार्ग बनाओ

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के सुरेमनपुर गांव के ग्रामीणों में करमानपुर जाने वाला मार्ग बंद करने की कोशिश से आक्रोश, रेल पटरी पर प्रदर्शन

senani.in

सुरेमनपर प्रतिनिधि

छपरा रेल खंड पर सुरेमनपुर गांव के सामने रेलवे द्वारा सड़क बंद करने की तैयारी पर ग्राम पंचायत गंगापुर के लोग भड़क उठे हैं।

ग्रामीणों ने रेलवे पर वैकल्पिक मार्ग तैयार किए बिना सड़क बंद करने का आरोप लगाया। साथ ही जेसीबी से गड्ढा खोदवाने पहुंचे रेलकर्मियों को वापस कर दिया। ग्रामीणों ने इस दौरान रेल पटरी पर प्रदर्शन भी किया।

रेलवे महाप्रबंधक को भेजा ज्ञापन

प्रदर्शन के बाद सुरेमनपुर के स्टेशन अधीक्षक को पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक के नाम ज्ञापन भी ग्रामीणों ने सौंपा। ज्ञापन में हेमंतपुर, सुरेमनपुर और गंगापुर के दर्जनों ग्रामीणों ने मार्ग बंद करने से पहले वैकल्पिक उपाय करने की मांग की।

इस सड़क पर निर्भर हैं सैकड़ों लोग

ज्ञापन में कहा गया है कि हेमंतपुर, गंगापुर और सुरेमनपर के बाशिंदे वर्षों से पड़ोसी गांव करमानपुर आने-जाने के लिए इस मार्ग का उपयोग करते हैं। सुरेमनपुर और करमानपुर के बीच से रेलवे पटरी गुजर रही है। लेकिन, पिछले कुछ दिनों से इस मार्ग पर पटरी के दोनों ओर रेलवे द्वारा वैकल्पिक प्रबंध किए बगैर गड्ढे खोदे जा रहे हैं। इसके चलते लोगों का आवागमन प्रभावित हो रहा है।

ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचकर रेलवे का काम रुकवा दिया है। साथ ही रेलवे महाप्रबंधक से समस्या के समाधान के लिए सहानुभूतिपूर्वक पहल करने की मांग की गई है। ग्रामीणों का कहना है कि इस सड़क पर आसपास के गांवों के सैकड़ों लोग निर्भर हैं।

ग्राम प्रधान मांती देवी के हस्ताक्षर से सौंपे गए इस ज्ञापन की कॉपी डीआरएम समेत रेलवे के सभी प्रमुख अधिकारियों को भेजी गई है।

इन्होंने सौंपा ज्ञापन

सुरेमनपर के स्टेशन अधीक्षक को ज्ञापन सौंपने वालों में प्रधान प्रतिनिधि दीनदयाल प्रसाद, हेमंतपुर के युवा नेता जेपी यादव, श्रीनाथ भारती, कौशल यादव, अशोक पांडेय, हरख यादव, श्याम बिहारी पांडेय, उमाशंकर पांडेय, रमावती देवी, अकली देवी, सनमतिया देवी, चंद्रावती देवी समेत बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मौजूद थे।

Leave a Reply