मानवाधिकारवादी चितरंजन सिंह पंचतत्व में विलीन

बलिया जिले के सुल्तानपुर गांव स्थित घर पर हुआq निधन, सांसद, डीएम समेत बड़ी संख्या में पहुंचे लोगों ने दी श्रधांजलि

senani.in

डिजिटल डेस्क

बलिया

लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष तथा मानवाधिकारवादी चितरंजन सिंह का शुक्रवार को निधन हो गया। वे कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे।

शनिवार को उनका अंतिम संस्कार हुआ। उन्हें बलिया के जिलाधिकारी हरिप्रताप साही, उपजिलाधिकारी बांसडीह दुष्यंत मौर्य, तहसीलदार बांसडीह गुलाबचंद्र, कोतवाल बांसडीह राजेश सिंह, बलिया के सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त, राज्य के पूर्व कैबिनेट मंत्री राजधारी सिंह समेत बड़ी संख्या में आम और खास लोगों ने उनके सुल्तानपुर गांव स्थित घर पहुंचकर श्रंद्धाजलि दी और उनके अंतिम दर्शन किए।

देश के बुद्धिजीवियों में शोक की लहर

चितरंजन सिंह नहीं रहे https://senani.in/2020/06/27/pucl-leader-chitranjan-singh-is-no-more/

चितरंजन सिंह ने बलिया जिले के सुल्तानपुर गांव स्थित अपने पैतृक निवास पर शुक्रवार को अंतिम सांस ली। उनके छोटे भाई एवं वरिष्ठ पत्रकार मनोरंजन सिंह ने बताया कि बीएचयू के चिकित्सकों ने घर पर ही उनकी देखरेख की सलाह दी थी। वे विभिन्न संस्थाओं और संगठनों से जुड़े थे। चितरंजन सिंह के निधन से देशभर के बुद्धिजीवियों में शोक की लहर दौड़ गई है। सोशल मीडिया तथा उनके घर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा हुआ है।

Leave a Reply