दिल्ली में फंसे झारखंड के कामगार को युवा नेता कुणाल षाड़ंगी ने विमान से पहुंचवाया घर

लॉकडाउन में दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों का सहारा बने कुणाल, टीम भी सक्रिय

डिजिटल डेस्क

दिल्ली में फंसे एक मजदूर का सहारा बने बहरागोड़ा के पूर्व विधायक एवं झारखंड के युवा नेता कुणाल षाड़ंगी।

पूर्व विधायक की टीम द्वारा न केवल उस कामगार को विमान से दिल्ली से रांची पहुंचाया गया, बल्कि रांची से उसे कार से उसके धालभूमगढ़ स्थित घर भी पहुंचवाया गया।

दिल्ली की फर्म में काम करते हैं रवि

झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के धालभूमगढ़ निवासी कामगार रवि पॉल दिल्ली की एक फर्म में काम करते हैं। लॉकडाउन और उसके बाद संसाधनों के अभाव में वह वहां फंसे रह गए।

दिल्ली सरकार से नहीं मिली कोई मदद

मामले की जानकारी केयर फॉर नेशन नाम के एनजीओ द्वारा ट्वीटर के जरिए दिल्ली सरकार के संज्ञान में लाया गया, लेकिन कोई सहयोग नहीं मिला। जानकारी मिलने पर बागबेड़ा निवासी भाजपा कार्यकर्ता अजय पंचम ने ट्वीट कर मामले की जानकारी पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी को दी। षाड़ंगी ने मामले में तुरंत संज्ञान लिया। उनकी पहल पर तमिलनाडु की डॉक्टर चांदनी श्रीनिवासन ने कामगार रवि पॉल का दिल्ली से रांची का 35 सौ रुपये का फ्लाइट टिकट कराया। साथ ही रवि के आने-जाने के अन्य खर्च का भी जिम्मा उठाया। बुधवार को रवि पॉल फ्लाइट से रांची पहुंचे।

रांची एयरपोर्ट पर कुणाल ने भेजी कार

रांची एयरपोर्ट पर कुणाल षाड़ंगी ने कार भेजी और रवि को धालभूमगढ़ स्थित उनके घर तक पहुंचाया गया। रांची से धालभूमगढ़ लगभग 280 किलोमीटर है।

पहली बार की विमान यात्रा

रवि ने बताया कि उन्होंने पहली बार हवाई सफर किया है। इससे वे काफी खुश हैं। उन्होंने फ्लाइट में फोटो भी खिंचवाई। घर लौटने पर कामगार रवि पॉल ने युवा भाजपा नेता सह पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी और डॉक्टर चांदनी के प्रति आभार जताया।

एनजीओ केअर फॉर नेशन का जताया आभार

रवि ने भाजपा कार्यकर्ता अजय पंचम और एनजीओ केअर फॉर नेशन के प्रयासों के लिए भी धन्यवाद दिया।

जरूरतमंदों के चेहरों पर लाएंगे मुस्कान : कुणाल

पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी ने कहा कि जरूरतमंदों के चेहरों पर मुस्कान लाना ही उनका मकसद है। षाड़ंगी के इस प्रयास की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है।

टीम वर्क से कुछ भी असंभव नहीं : डॉ चांदनी

डॉक्टर चांदनी ने कहा कि वर्तमान समय सभी के लिए चुनौतियों से भरा है। टीम वर्क से कुछ भी असंभव नहीं। उन्होंने इस अभियान को टीम वर्क बताते हुए सभी को शुभकामनाएं दीं।

Leave a Reply