जुलाई से जोर पकड़ेगा अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन कर मंदिर निर्माण का करेंगे शुभारंभ, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने शुरू की तैयारी

डिजिटल डेस्क

अयोध्या में राम जन्म भूमि पर भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण जुलाई के पहले हफ्ते में विधिवत रूप से शुरू हो जाने की संभावना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन कर इसका शुभारंभ करेंगे। इसके लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने पीएम के आगमन या वर्चुअल भूमि पूजन, दोनों संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए तैयारियां शुरू कर दी हैं। माना जा रहा है कि पीएम एक जुलाई को भूमिपूजन के लिए अयोध्या आ सकते हैं। इससे पहले तैयारियों का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के रामनगरी आने की संभावना है। हालांकि, इस संबंध में कोई अधिकृत कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है।

तीन साल में पूरा होगा राम मंदिर का निर्माण

मंदिर का निर्माण तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य है। इसके लिए इंजीनियरों और कर्मचारियों की टीम रामजन्म भूमि परिसर में पहुंच चुकी है। अभी परिसर के समतलीकरण का काम चल रहा है। साथ ही रामलला को भी भव्य अस्थाई मंदिर में शिफ्ट किया जा चुका है।

मांझा बरहटा में स्थापित होगी भगवान राम की सबसे ऊंची प्रतिमा

अयोध्या के मांझा बरहटा में भगवान राम की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा (221 मीटर) स्थापित की जाएगी। नव्य अयोध्या प्रोजेक्ट के तहत इस प्रतिमा की स्थापना की जा रही है। मुख्य प्रतिमा की ऊंचाई 151 मीटर, पेडस्टल की ऊंचाई 50 मीटर तथा प्रतिमा के छात्र की ऊंचाई 20 मीटर होगी। इस तरह प्रतिमा की कुल ऊंचाई 221 मीटर होगी। प्रधानमंत्री प्रतिमा के निर्माण का कार्य भी आरंभ करेंगे। इन दोनों कार्यक्रमों में वीआईपी के आगमन की तैयारी में प्रशासन जोरों से जुटा है।

Leave a Reply