सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़क निर्माण को गति देंगे झारखंड के श्रमिक

\n

Hemant Soren

दुमका से विशेष ट्रेन से लगभग 15 सौ कामगार बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन की ओर से सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़क निर्माण कार्य में शामिल होने के लिए होंगे रवाना, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दिखाएंगे हरी झंडी

मुख्यमंत्री से बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन के अपर पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार ने की मुलाकात, बीआरओ के क्रियाकलापों की दी जानकारी

सेनानी संवाददाता, रांची

झारखंड के दुमका से एक विशेष ट्रेन से लगभग 15 सौ कामगार बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन (बीआरओ) की ओर से सीमावर्ती क्षेत्रों में कराए जाने वाले सड़क निर्माण में योगदान के लिए 12 जून को रवाना होंगे। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन स्वयं इस विशेष ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगेl
इस सिलसिले में बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन के अपर पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार ने गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से शिष्टाचार मुलाकात की। उन्होंने मुख्यमंत्री को बीआरओ द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी।

जिला प्रशासन और बीआरओ के बीच होगा समौझता

दुमका जिले से कामगारों के विशेष ट्रेन से रवाना होने से पूर्व बीआरओ के पदाधिकारी और जिला प्रशासन द्वारा एक समझौते पर हस्ताक्षर किया जाएगा। बीआरओ के अपर पुलिस महानिदेशक के अनुसार बीआरओ और झारखंड श्रम विभाग के बीच एमओयू के लिए रक्षा मंत्रालय से अनुमति मांगी गई है। रक्षा मंत्रालय की अनुमति मिलने के बाद एमओयू की प्रक्रिया पूरी की जाएगी, ताकि श्रम विभाग इस कार्य में बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन को समुचित सहयोग प्रदान कर सके और श्रम कानूनों का उल्लंघन न हो।

कामगारों की भर्ती में पारदर्शिता पर जोर

मुख्यमंत्री ने बीआरओ के अपर पुलिस महानिदेशक से कहा कि कामगारों के रिक्रूटमेंट में श्रम कानूनों का पालन किया जाए। इनकी नियुक्ति में पूरी तरह पारदर्शिता बरती जाए और इसमें बिचौलियों की किसी तरह की भूमिका नहीं होनी चाहिए। श्रमिकों के हित से किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती जानी चाहिए।

बैंक खाते में जाए मजदूरी

मुख्यमंत्री ने कहा कि कामगारों के बैंक खाते में मजदूरी की राशि हर महीने समय पर भेजी जाए। चूंकि ये कामगार अथवा श्रमिक दुर्गम व कठिन क्षेत्रों में सड़क निर्माण का कार्य करते हैं, अतः इनकी सुरक्षा का पूरा ख्याल भी रखा जाए।

झारखंड के श्रमिकों का बहुमूल्य योगदान

बीआरओ के अपर पुलिस महानिदेशक ने मुख्यमंत्री को बताया कि झारखंड के कामगार देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़क निर्माण कार्य में शुरू से ही बहुमूल्य योगदान देते आ रहे हैं। यहां के कामगारों के कार्य की सराहना बीआरओ द्वारा हमेशा से की जाती रही है। यहां से जो कामगार देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़क निर्माण कार्य के लिए जा रहे हैं, उनकी सुरक्षा, मजदूरी और कल्याण को लेकर बीआरओ सभी समुचित कदम उठाएगा।मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव–सह-प्रधान सचिव, श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण विभाग राजीव अरुण एक्का भी मौजूद थे।

Leave a Reply