न्यूजीलैंड में कोरोना की हार, अनुशासन की जीत

आशीर्वाद सिंह

डिजिटल डेस्क

कोरोना के खिलाफ दुनियाभर में चल रही जंग के बीच एक अच्छी खबर आई है। न्यूजीलैंड ने कोरोना को मात दे दी है। यह जानकारी स्वयं वहां की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी। यहां अस्पताल में भर्ती आखिरी कोरोना मरीज को सोमवार को छुट्टी दे दी गई। यह मरीज 17 दिन पहले मिला था। इस महाविजय की जानकारी वहां के अधिकारियों ने जब प्रधानमंत्री को दी तो वे खुशी के मारे अपनी बेटी के साथ डांस करने लगीं। यहां कोरोना से 15 सौ लोग संक्रमित हुए और 22 लोगों की मौत हुई।

लॉकडाउन की बेड़ियां टूटीं

कोरोना पर जीत के साथ ही न्यूजीलैंड में 8 जून की मध्यरात्रि से लॉकडाउन पूरी तरह हटा लिया गया है। वहां की प्रधानमंत्री ने बताया कि देश में पिछले 17 दिनों में 40 हजार लोगों की कोरोना जांच की गई है। इनमें से किसी में संक्रमण नहीं मिला है।

खतरा बरकरार

प्रधानमंत्री जेसिंडा ने बताया कि हो सकता है कि आगे कोई केस फिर मिल जाए, लेकिन यह विफलता की निशानी नहीं होगी। हम पहले से ज्यादा सतर्क हैं।

कड़े नियमों से मिली सफलता

50 लाख की आबादी वाले इस देश ने कोरोना को मात दी है तो इसकी कई वजहें हैं। वहां जैसे ही कोरोना के मामले सौ तक पहुंचे पूरी सख्ती से लॉकडाउन किया गया। 10 अप्रैल से न्यूजीलैंड आने वाले हर नागरिक को 14 दिन के लिए क्वारंटाइन किया गया। देश के 60 फीसद लोगों की जांच की गई। 19 मार्च को जब छह केस थे तब बाहर से आने वालों पर रोक लगा दी गई। पड़ोसी देशों में बढ़ रहे मामलों को देखते हुए देश की सीमा सील कर दी गई। 50 मामले आने से पहले ही विमान, रेल, मेट्रो और बसों का संचालन पूरी तरह बंद कर दिया गया। इसके अलावा वहां की स्वास्थ्य टीम ने घर-घर जाकर लोगों को जागरूक किया और उन्हें बाहर न निकलने के लिए प्रेरित किया। वहां के लोगों ने भी सरकार के आदेशों का पूरी तरह पालन किया।

भारत और अन्य देशों के लिए अनुकरणीय

यहां भी कोरोना का प्रसार भारत के साथ ही शुरू हुआ था। भारत की ही तरह 25 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। लेकिन, वहां प्रति एक लाख व्यक्ति पर औसतन 22 सौ लोगों की कोरोना जांच की गई। यह जांच दर भारत के मुकाबले प्रति एक लाख व्यक्ति ग्यारह गुना ज्यादा है। भारत में अभी प्रति दस लाख व्यक्ति पर करीब दो हजार लोगों की जांच की गई है।

ये देश भी जीत के करीब

न्यूजीलैंड ने इस महामारी पर जीत हासिल कर ली है, वहीं फेरो आइलैंड, अरूबा और मोंटेगरो में भी अब कोई एक्टिव केस नहीं रह गया है। ब्रुनेई और त्रिनिदाद में अब एक-एक एक्टिव केस रह गए हैं। इसी तरह आइसलैंड और कंबोडिया में भी दो-दो सक्रिय केस ही शेष हैं।

भारत की जंग जारी

भारत में कोरोना के कुल मामले 2 लाख 56 हजार 611 हो गए हैं। इसके साथ ही संक्रमण के मामले में हम दुनिया में पांचवें स्थान पर पहुंच गए हैं। 20 लाख मरीजों के साथ अमेरिका पहले स्थान पर है।

Leave a Reply